आंधी-पानी और आकाशीय बिजली ने ली 12 लोगों की जान

 

-NH Desk, Lucknow

(एजेंसी)उत्तर प्रदेश में रविवार को दिन भर आंधी-पानी और आकाशीय बिजली का कहर छाया रहा। इस प्राकृतिक आपदा ने राज्य के विभिन्न क्षेत्रों से कम से कम 12 लोगों की जान ले ली। धूल भरी आंधी से कानपुर, मुरादाबाद और कासगंज समेत कुछ जिलों में दिन में ही अंधेरा छा गया। तेज आंधी से कई जिलों की विद्युत आपूर्ति भी बाधित रही। बेमौसम आंधी-पानी से किसानों के चेहरे मुरझा गए हैं।
आंचलिक मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार देश के उत्तरी भाग में सक्रिय हुए पश्चिमी विक्षोभ के कारण उप्र समेत कई राज्यों में अभी तीन-चार दिन तक तेज धूल भरी आंधी और बारिश की संभावना है। उप्र में पिछले एक पखवारे से मौसम का मिजाज रह-रहकर बदल रहा है। इससे आम की फसल को काफी नुकसान हो रहा है।
विभिन्न जिलों से मिल रही खबरों के मुताबिक आज दिन में मौसम का बदला मिजाज सबसे पहले पश्चिमी उप्र में देखने को मिला। दिल्ली से सटे नोएडा, गाजियाबाद, हापुड़, मेरठ, सहारनपुर और शामली समेत कई जिलों में दोपहर 12 बजे अचनाक तेज और धूलभरी आंधी चलने लगी। इसके बाद बारिश भी हुई। आंधी के चलते इन जिलों में बिजली आपूर्ति बाधित हो गई। मुरादाबाद और आसपास के जिलों में तो तेज आंधी और काले बादलों के चलते दिन में ही रात जैसा अंधेरा छा गया।
दोपहर बाद आंधी और पानी ने कानपुर, चित्रकूट, हरदोई, फर्रुखाबाद, हमीरपुर और औरैया समेत अन्य जिलों को भी अपने आगोश में ले लिया। इसी वक्त वाराणसी और बलिया सहित पूर्वांचल के जिलों में भी आंधी-बारिश शुरू हो गई। राजधानी लखनऊ, प्रयागराज और प्रतापगढ़ जैसे जिलों में शाम के वक्त तेज आंधी के साथ बरसात हुई।
12 लोगों के मौत की खबर
समाचार लिखे जाने तक आंधी-पानी और आकाशीय बिजली से प्रदेश के विभिन्न जिलों में 12 व्यक्तियों की मौत होने की खबर है।
बाराबंकी में कच्ची दीवाल गिरने से मालिनपुर निवासी 28 वर्षीया मंगेश कुमारी पत्नी रिंकू की जान चली गई। वहीं इस प्राकृतिक आपदा से कासगंज में एक महिला समेत चार लोगों की मौत हो गई। जिले में अपराह्न करीब 2.30 बजे तेज आंधी के साथ बारिश हुई। इस बीच आकाशीय बिजली गिरने से सहावर क्षेत्र में तंबाकू किसान प्रदीप कुमार, सोरों के तारापुर कनक गांव में गोवर्धन एवं मथुराप्रसाद की मौत हो गई। इसके अलावा सुन्नगढ़ी के किसौल में दीवार गिरने से एक महिला गुड्डो पत्नी बुधपाल की मौत हुई। जिलाधिकारी सीपी सिंह ने बताया कि दैवीय आपदा के दौरान प्रत्येक मृतक के परिवार को सरकार की ओर से चार लाख रुपए दिए जाएंगे।
बलिया में सिकंदरपुर थाना क्षेत्र के मालदह गांव में आकाशीय बिजली की चपेट में आने से चचेरे भाई-बहन की जान चली गई। गांव की प्रीति (10) पुत्री विद्यासागर गोड़ व सुधांशु (14) पुत्र ईश्वरचंद गोड़ आम के बाग में खेल रहे थे, जिस समय यह हादसा हुआ। यद्यपि उन्हें तत्काल स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सिकन्दरपुर ले जाया गया लेकिन डाक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया।
चित्रकूट में भी आकाशीय बिजली से दो लोगों की मौत हो गई। दोनों मृतक शिव कुशल (15) पुत्र श्रीराम व शिवराकेश (13) पुत्र कालीचरन    मऊ तहसील के सुहेल गांव के बताऐ जाते हैं। इटावा में आंधी-पानी के साथ गिरी आकाशीय बिजली की चपेट में आने से एक युवक सुनील कुमार की मौत हो गई। इसी तरह मीरजापुर में आकाशीय बिजली से हलिया थाना क्षेत्र के महुगढ़ ग्राम निवासिनी प्रेमा देवी उम्र 50 वर्ष की मौत होने की खबर है।
इसके अलावा हरदोई में पेड़ गिरने से एक युवक की मौत हो गई। बताया जाता है कि जिले के लोनार थाना के अंतर्गत निजामपुर निवासी रमन (24) पुत्र छोटेलाल साइकिल से सब्जी बेंचकर लौट रहा था। उसी समय तेज आंधी के चलते एक पेड़ उसके ऊपर गिर गया और उसकी मौत हो गईं।

Review आंधी-पानी और आकाशीय बिजली ने ली 12 लोगों की जान.

Your email address will not be published. Required fields are marked *