डाक विभाग घर-घर जा कर दे रहा है पैसा बैंकों में न लगाये भीड़, पेंशन व मनरेगा मजदूरी का भी भुगतान करेंगे डाक-कर्मी

घर-घर जाकर मनरेगा मजदूरी का भुगतान करते डाककर्मी

-NH Desk, Barabanki

जनपद बाराबंकी के अंतर्गत भारत सरकार तथा उत्तर प्रदेश सरकार की अनेक लाभार्थी कल्याणकारी योजनाएं क्रियान्वित हो रही हैं जिसमें लाभार्थी को धनराशि सीधे उनके बैंक खाते में स्थानांतरित की जाती है और लाभार्थी द्वारा सीधे बैंक जाकर धनराशि का आहरण अपने बैंक खाते से किया जाता है | नोवेल कोरोना वायरस की आपदा के दृष्टिगत भारतीय डाक विभाग अपनी सामाजिक सहभागिता को सुनिश्चित करते हुए जिला प्रशासन के सहयोग एवं समन्वय से तथा मुख्य विकास अधिकारी बाराबंकी की देखरेख में ग्राम पंचायत वार विस्तृत कार्य योजना तैयार कर ऐसे लाभार्थियों को उनके ग्राम में कैंप लगाकर अथवा सीधे उनके घर पर AEPS(आधार आधारित भुगतान प्रणाली) के माध्यम से डाक विभाग के कर्मचरियों के द्वारा अन्य बैंको के खातों से रकम का भुगतान माइक्रो ए टी एम, बायो मैट्रिक्स एवम् OTP के आधार पर प्रदान किया जा रहा है |

बाराबंकी मण्डल के  डाक अधीक्षक टी० पी०सिंह ने नवोदयंस हाइट्स को बताया कि  इस प्रक्रिया में लॉकडाउन के नियमों तथा सोशल डिसटेन्सिंग का पूर्ण ध्यान रखा जाता है | इस वृहद उद्देश्य की पूर्ति हेतु बाराबंकी जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों में 311 डाककर्मी, कस्बों में 29 डाककर्मी तथा बाराबंकी शहर के 18 डाककर्मियों के द्वारा सप्ताह के सातों दिन लाभार्थियों को उनके गाँव के प्राथमिक विद्यालयों ,आँगनबाड़ी केन्द्रों, ग्राम पंचायत भवनों पर ग्राम पंचायत अधिकारी एवम् ग्राम प्रधान की उपस्थिति में उनके बैंक खातों से भुगतान कर रकम सीधे लाभार्थी के हाथ में दी जा रही है ।

महिला डाककर्मी AEPS के माध्यम से जरुरतमंदो को उनके घर पर पैसे का भुगतान करती हुई

 

बुजुर्ग महिला , पुरुष तथा विकलांग एवम् बीमार व्यक्तियों को उनके घर के द्वार पर जाकर धनराशि का भुगतान किया जा रहा है यह कार्य जिला प्रशासन के सहयोग से डाक विभाग एवम् ग्राम पंचायत सचिव और ग्राम प्रधान की देख रख में किया जा रहा है। इस प्रकार राष्ट्रीय आपदा के समय जनसेवा के मिशन को सार्थक किया जा रहा है और यह सेवा 31 मई 2020 तक इसी प्रकार सप्ताह के सातों दिन जारी रहेगी । डाक विभाग के द्वारा प्रत्येक डाक कर्मी को ग्रामीण स्तर पर एक दिन में रकम 50000 तक के Aeps के ट्रांजेक्शन करने हेतु अधिकृत किया गया है इसी के अनुसार उन्हें नगदी आपूर्ति की व्यवस्था भी की जा रही है ।

गाँव में कैंप लगाकर पैसे का भुगतान करते हुए डाककर्मी

इसी क्रम में रविवार दिनांक रविवार को अवकाश के दिन भी तमाम डाक कर्मियों के द्वारा घर घर जाकर लाभार्थियों को डी बी टी रकम का भुगतान किया गया जिसमें पुरुष डाक कर्मी शराहुल कुमार, दृगपाल सिंह एवं  शेष नारायण सिंह के द्वारा घर घर, द्वार- द्वार जाकर तथा महिला डाक कर्मी राज लक्ष्मी वर्मा, अन्नपूर्णा सिंह के द्वारा महिला लाभार्थियों को घर घर जाकर गृहणियों को रकम का भुगतान किया गया। इस प्रकार लाभार्थी बैंकों की भीड़ में जाने से भी बच रहे हैं और लॉकडाउन के नियमों का भी पूर्ण पालन संभव हो पा रहा है |

 

टी० पी०सिंह  ने आगे बताया कि बाराबंकी डाक मण्डल एवम् जिला प्रशासन के समन्वय से जिला स्तर पर तैयार की गई कार्ययोजना के तहत लाभार्थियों को पेंशन एवम् नरेगा मजदूरी का भी भुगतान डाक कर्मी घर-घर जाकर करेंगे | डाक विभाग अनिवार्य सेवाओ के अतिरिक्त पुलिस, प्रशासन एवं स्वास्थय विभाग के अधिकारियों के साथ संपर्क कर देश भर में कोविड-19 टैस्टिंग किट, फूड पैकेट, दवाओं के पैकेट, जीवन रक्षक दवाओं के पैकेट आदि की प्रदायगी भी कर रहा है ।
उक्त को मद्देनजर रखते हुए भारत सरकार के द्वारा विभागीय कर्तव्यों के साथ साथ कोविड-19 के संकट के समय सामाजिक प्रयोजन की भी सेवा की जा रही हैं ।

कोविड-19 की स्थिति के परिप्रेक्ष्य में, भारत सरकार द्वारा फैसला लिया गया है कि सभी डाक सेवकों सहित डाक कर्मचारियों को कर्तव्य निवर्हन के दौरान इस कोविड – 19 की महामारी का शिकार होकर मृत्यु हो जाने पर 10 लाख रुपये की क्षतिपूर्ति का भुगतान किया जाएगा।

उक्त कार्य में लगे सभी डाक विभाग के कर्मचारियों एवम् अधिकारियों को फेस मास्क, साबुन, हैंड सेनेटाइजर उपलब्ध करा दिए गए है और इनके प्रयोग के बारे में पूर्ण जानकारी भी दे दी गई है साथ ही सभी को Social Distancing को ध्यान में रखते हुए कार्य करने के निर्देश नियमानुसार जारी किए गए है। जनपद बाराबंकी में डाक विभाग ने माइक्रो ए टी एम एवम् बायो मैट्रिक्स से शनिवार  को एक ही दिन में 3448 लाभार्थियों को कुल रु 32,07,000 की धनराशि AEPS के माध्यम से लाभार्थियों को उनके गाँव एवम् घर में भुगतान किया है |

इस प्रकार जनपद बाराबंकी में डाक विभाग ने पिछले एक सप्ताह में 15 हजार से अधिक लाभार्थियों को करोड़ों रुपए का भुगतान करते हुए DBT योजनाओं का लाभ पहुँचाया है और संकट की घड़ी में उनकी वित्तीय सहायता करते हुए लॉकडाउन के उद्देश्यों को सफल बनाने में अपना योगदान दिया है |

Review डाक विभाग घर-घर जा कर दे रहा है पैसा बैंकों में न लगाये भीड़, पेंशन व मनरेगा मजदूरी का भी भुगतान करेंगे डाक-कर्मी.

Your email address will not be published. Required fields are marked *