तृणमूल काँग्रेस की मानसकिता को दर्शाता है सांसद की भाषा।

NH DESK, JHARKHAND

बिहारी गुण्डा शब्द का उपयोग हिंदी भाषी क्षेत्रों का अपमान।

राँची। भाजपा सांसद निशिकांत दुबे को तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा के द्वारा बिहारी गुंडा कहे जाने पर राँची के सांसद संजय सेठ ने कड़ा एतराज जताया है। श्री सेठ कहा कि आई. टी. कमिटी के सदस्य होने के नाते मैं भी इस बैठक में भाग लेने पहुँचा था। बैठक शुरू होते ही तृणमूल कांग्रेस के सांसद ने भाजपा के सांसद को बिहारी गुंडा कहा, जिसका हम सबने प्रतिवाद किया। हम सबने तृणमूल सांसद को माफी माँगने को कहा।
उन्होंने कहा कि तृणमूल सांसद का यह कृत्य संसदीय मर्यादा के खिलाफ है। यह पूरे तृणमूल कांग्रेस पार्टी के चरित्र को दर्शाने वाला है। सांसद श्री सेठ ने कहा कि बिहारी गुंडा शब्द किसी व्यक्ति के लिए नहीं बल्कि समूचे हिंदी भाषी क्षेत्रों के लिए अपमानजनक है। ऐसा कह कर तृणमूल कांग्रेस के सांसद ने हिंदीभाषी क्षेत्रों के प्रति अपनी मानसिकता को दर्शाता है। यह मानसिकता सिर्फ तृणमूल कांग्रेस के सांसद की नहीं बल्कि पूरी की पूरी तृणमूल कांग्रेस पार्टी की मानसिकता है।
सांसद श्री सेठ ने इस मामले में लोकसभा के अध्यक्ष श्री ओम बिरला जी से भी आग्रह किया है कि संसदीय मर्यादाओं के खिलाफ भाषा का प्रयोग करने वाले ऐसे सांसदों पर अनुशासनहीनता की कार्रवाई की जानी चाहिए ताकि लोकतंत्र की परंपरा और मर्यादा कायम रह सके।

Review तृणमूल काँग्रेस की मानसकिता को दर्शाता है सांसद की भाषा।.

Your email address will not be published. Required fields are marked *