दक्षिण अंडमान सागर के ऊपर और उसके निकट के क्षेत्रों में कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना,आ सकता है भयानक चक्रवात

-NH Desk,New Delhi

विभिन्न मौसम पूर्वानुमान मॉडलों के पूर्वानुमान  मार्गदर्शनों और इस क्षेत्र में व्याप्त पर्यावरण और थर्मो-डायनेमिक स्थितियों के अनुसार, 30 अप्रैल 2020 के आसपास दक्षिण अंडमान सागर के ऊपर और उसके निकट के क्षेत्रों में कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। बाद के 48 घंटों के दौरान, इसमें और तेजी आने की संभावना है। 30 अप्रैल से 3 मई 2020 के दौरान, शुरुआत में इसके उत्तर-उत्तरपश्चिम की ओर बढ़ने और उसके बाद उत्तर-उत्तरपूर्व की ओर तथा अंडमान और निकोबार द्वीप समूह की ओर बढ़ने की संभावना है।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के चक्रवात चेतावनी केंद्र का कहना है कि इस प्रणाली पर लगातार निगरानी रखी जा रही है और संबंधित राज्य सरकारों को इसके संदर्भ में नियमित रूप से सूचित किया जा रहा है।

इसके प्रभाव के कारण, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में और उसके आस-पास के समुद्री क्षेत्रों में निम्नलिखित प्रतिकूल मौसम होने की संभावना है:

प्रतीकात्मक चित्र

चेतावनी:

  1. वर्षा: 30 अप्रैल से निकोबार द्वीप समूह में अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा, साथ ही कई स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है। बाद के दिनों में इसकी तीव्रता और स्थानिक सीमा में और ज्यादा वृद्धि होने की संभावना है। जहां पर 1 मई को अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा से लेकर बहुत भारी वर्षा, साथ ही अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा हो सकती है वहीं 2 मई को अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के कुछ स्थानों पर भारी वर्षा से लेकर बहुत भारी वर्षा हो सकती है।
  2. हवा की चेतावनी: तुफानी हवाएं, 30 अप्रैल और 1 मई 2020 को उत्तरी सुमात्रा तट, दक्षिण अंडमान सागर, निकोबार द्वीप समूह और उससे सटे दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी में और 2 मई और 3 मई 2020 को उत्तरी अंडमान सागर, अंडमान द्वीप समूह और दक्षिण पूर्व और मध्य-पूर्व बंगाल की खाड़ी में 40-50 किमी प्रति घंटे से लेकर 60 किमी प्रति घंटे की तेज रफ्तार से चलने की संभावना है।
  3. समुद्र की स्थिति: 30 अप्रैल और 1 मई, 2020 को उत्तरी सुमात्रा तट, दक्षिण अंडमान सागर और उससे सटे दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी और 2 और 3 मई 2020 को अंडमान सागर और बंगाल की खाड़ी के दक्षिण पूर्व और मध्य पूर्व के आसपास के क्षेत्रों में समुद्र की स्थिति कठिन से लेकर बहुत कठिन रह सकती है।
  4. मछुआरों के लिए चेतावनी: मछुआरों को सलाह दी जाती है कि वे 30 अप्रैल से लेकर 3 मई 2020 तक, उत्तरी सुमात्रा तट, अंडमान सागर और दक्षिण पूर्व और मध्य पूर्व बंगाल की खाड़ी के आसपास के इलाकों के समुद्र में या उसके आसपास न जाएं।

 

Review दक्षिण अंडमान सागर के ऊपर और उसके निकट के क्षेत्रों में कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना,आ सकता है भयानक चक्रवात.

Your email address will not be published. Required fields are marked *