बाराबंकी में स्थानीय जिम्मेदारों द्वारा दोस्ती निभाना पड़ सकता है सिद्धौर निवासियों पर भारी

-NH Desk,Barabanki(प्रदीप सारंग)
ग्रीन जोन से निकलकर एक बार फिर बाराबंकी ऑरेंज जोन में आ गया है। कारण लखनऊ से सिद्धौर आयी एक महिला का पॉजिटिव निकलना। सिद्धौर नगर पंचायत का स्थानीय प्रशासन और इसके जिम्मेदार लोग अब भी गम्भीर नहीं हैं।
आम चर्चा है कि सिद्धौर से मोटर मालिकान मजदूर लेकर प्रायः बाहर जनपदों में माल पहुचाने जाते रहते हैं। इस लॉकडाउन के दौरान भी ले जाते रहे हैं। जिनमें शेखन टोला निवासी, मोटर मालिक मोहम्मद अतीक पुत्र मुहम्मद राशिद तथा मोहम्मद खादिम विशेष हैं। जिनके द्वारा दो दर्जन से अधिक मजदूरों को गैर जनपद ले जाया गया था। किन्तु सभी मजदूरों का न परीक्षण कराया गया है और न ही कोरेन्टीन कराया गया है।
चर्चा ये भी है कि स्थानीय प्रशासन के जिम्मेदार लोग मोटर मालिको सहित अनेक ऐसे लोगो न से दोस्ती किये हुए हैं जिससे अनेक कोरेंटीन कराए जाने लायक लोग बाहर घूम रहे हैं जिससे लोगो मे दहशत व्याप्त है।
विशेष ये कि इन्ही खुल्ला घूम रहे मजदूरों के साथ काम करने वाले कुछ मजदूरों को कोरेन्टीन कराया गया है। सवाल है कि सभी को क्यों नहीं ..? जो भी हो मोटर मालिकों को भी अपनी जिम्मेदारी का एहसास नहीं है वरना चाहिए तो ये था कि जितने मजदूरों को बाहर ले गए है वे खुद सूची बनाकर नगर प्रशासन को दे देते।

Review बाराबंकी में स्थानीय जिम्मेदारों द्वारा दोस्ती निभाना पड़ सकता है सिद्धौर निवासियों पर भारी.

Your email address will not be published. Required fields are marked *