राजनीति के चक्कर में थमा खेल मैदान का विकास

भादर।अमेठी जनपद के विकासखंड भादर क्षेत्र में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भादर के पीछे लगभग 40 वर्ष पुराना श्री दुल्हराय बाबा खेल मैदान स्थित है जहां पर कई गांवों के युवा एकत्रित होते है लेकिन मैदान सिर्फ नाम का है वहां व्यवस्था के नाम पर कुछ भी नहीं है।इस खेल मैदान में हज़ारों की संख्या में सिपाही व सेना की शारीरिक दक्षता की तैयारी करते है।अभी तक लगभग 600 लोग इस मैदान में तैयारी करके देश की सेवा कर रहे है। अमेठी विधानसभा के लगभग सभी प्रतिनिधि यहां पर आएं है और सिर्फ दिलाशा देकर गए लेकिन मैदान आज भी वैसा ही है।चुनाव आते-आते विभिन्न पार्टियों की नज़र युवाओं पर रहती है और इस खेल के मैदान का सुंदरीकरण की बात करते है लेकिन चुनाव के बाद भूल जाते है कि यहां खेल का मैदान भी है। हज़ारों की संख्या में खेल के प्रेमी युवाओं की प्रतिभा को रोका जा रहा है। खेल हमारे जीवन का अभिन्न हिस्सा हैं। खुशहाल व तंदरुस्त जीवन के लिए खेलकूद जरूरी है। वैसे तो हर पंचायत में खेल मैदान बनाया जाना चाहिए, ताकि ग्रामीण स्तर पर नए खिलाड़ी तैयार किए जा सकें। बहुत सी प्रतिभाओं ने ग्रामीण क्षेत्रों से निकल कर राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नाम चमकाया है। इसलिए ग्रामीण स्तर पर सुविधाएं जुटाने की जरूरत है। जब हम खेल मैदानों की बात करते हैं तो अमेठी जनपद में बहुत कम मैदान ऐसे हैं जिन्हें हम जनपद स्तर का कह सकते हैं। कहना गलत न होगा कि जनपद के कई बड़े मैदानों में सुविधाएं जुटाने के मामले में राजनीति भी हावी रही है। स्कूली स्तर पर खेलकूद गतिविधियों के लिए मैदान होना जरूरी है पर वास्तविकता यह है कि बहुत से निजी स्कूल बिना मैदान के हैं। इन स्कूलों में खेलकूद गतिविधियों का आयोजन कैसे होता होगा। ग्रामीण क्षेत्रों में तो खेलकूद गतिविधियों के लिए मैदान हैं पर शहरी क्षेत्रों में जहां कंक्रीट का जंगल बढ़ता जा रहा है, वहां पर मैदान सिकुड़ रहे हैं। हालत यह है कि बच्चों के खेलने के लिए मैदान ही नहीं बचे हैं। खेल प्रतिभाएं तभी सामने आएंगी जब खेलने के लिए मैदान होंगे। इसके लिए मैदानों को उस तरह से तैयार करना होगा ताकि खिलाड़ियों के खेल में बाधा न आए। राजनीति खेल पर हावी न हो, राजनीति से ऊपर उठकर खेल व खिलाड़ियों के लिए गंभीर हों पर उसके लिए खेल मैदानों का होना बहुत जरूरी है।

Review राजनीति के चक्कर में थमा खेल मैदान का विकास.

Your email address will not be published. Required fields are marked *