लॉकडाउन में नवोदय विद्यालय में रुके 3000 छात्रों को उनके घर पहुँचाया गया : निशंक

 नवोदय विद्यालय समिति ने कोविड-19 के कारण लागू लाकडाउन के दौरान देश के विभिन्‍न हिस्‍सों में 173 जवाहर नवोदय विद्यालयों में मौजूद 3000 से अधिक वि़द्यार्थियों को उनके घर भिजवाया है । मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी ।

जवाहर नवोदय विद्यालय, नवोदय विद्यालय समिति द्वारा संचालित सह-शैक्षिक आवासीय विद्यालय हैं, जो मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अंतर्गत एक स्वायत्त संगठन है।

मंत्रालय के बयान के अनुसार, निशंक ने बताया कि नवोदय विद्यालय समिति ने लॉकडाउन की अवधि के दौरान देश के विभिन्‍न हिस्‍सों में 173 जवाहर नवोदय विद्यालयों में मौजूद 3000 से अधिक वि़द्यार्थियों को उनके घर भिजवाने का कार्य 15 मई को पूरा कर लिया।

मंत्री ने बताया कि लॉकडाउन की अवधि बढ़ाए जाने के साथ ही इन वि़द्यार्थियों में बेचैनी बढ़ने लगी और वे अपने घर लौटने को आतुर होने लगे, क्योंकि वे पिछले 6 महीनों से अपने परिजनों से नहीं मिले थे । इनमें से अधिकतर 13-15 वर्ष आयु वर्ग के (लड़कियों सहित) छात्र थे ।

मंत्रालय के बयान के अनुसार, नवोदय विद्यालय समिति इन विद्यार्थियों को जल्द से जल्द उनके घर भिजवाने के विभिन्न संभावित विकल्पों पर विचार कर रही थी। गृह मंत्रालय, राज्य और जिला प्रशासन के साथ कई दौर की चर्चाओं और सभी आवश्यक अनुमतियों को प्राप्त करने के बाद समिति ने लॉकडाउन की अवधि के दौरान भी बसों की विशेष रूप से व्‍यवस्‍था करके इन विद्यार्थियों को सड़क मार्ग से उनके घरों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

जवाहर नवोदय विद्यालय द्वारा 15 मई को विद्यार्थियों के अंतिम दस्‍ते के झाबुआ में अपने गंतव्य पहुंचने के साथ ही इस प्रक्रिया का समापन हो गया।

Review लॉकडाउन में नवोदय विद्यालय में रुके 3000 छात्रों को उनके घर पहुँचाया गया : निशंक.

Your email address will not be published. Required fields are marked *