हमीरपुर के जवाहर नवोदय स्कूल में फंसे 12 बच्चे मणिपुर के लिये रवाना

-NH Desk,New Delhi

हमीरपुर जनपद के राठ कस्बे में जवाहर नवोदय विद्यालय में पूर्ण बन्दी (लॉक डाउन) में फंसे एक दर्जन से अधिक बच्चों और उनके स्टाफ को रविवार के दिन परिवहन निगम की बस से मणिपुर के लिये रवाना कर दिया गया है। इन सभी को विदा करने से पहले मेडिकल परीक्षण किया गया।
मणिपुर प्रांत के इंफाल के 13 छात्र और छात्रायें हमीरपुर जिले के राठ कस्बे में उरई रोड पर स्थित जवाहर नवोदय विद्यालय में पिछले डेढ़ माह से फंसे थे। ये सभी बच्चे हिन्दी भाषा का प्रशिक्षण लेने के लिये 24 मार्च से पहले विद्यालय आये थे। उनके साथ वहां का स्टाफ भी था। इतने ही बच्चे मणिपुर में नवोदय विद्यालय प्रशिक्षण के लिये गये थे। पूर्ण बन्दी में फंसे बच्चों को मणिपुर भेजने के लिये स्कूल प्रशासन ने जिलाधिकारी से गुहार लगायी थी।
जिलाधिकारी ज्ञानेश्वर त्रिपाठी ने इस मामले में परमीशन भी जारी कर दिया था। बताया जाता है कि राठ के सरकारी अस्पताल के अधीक्षक डा.आरके कटियार ने अस्पताल के स्टाफ अजय, आशुतोष. प्रियंका कबीर, आरिफ अली, विनय कुमार के साथ नवोदय विद्यालय पहुंचकर 12 छात्र और छात्राओं के अलावा विद्यालय के 32 स्टाफ कर्मियों की मेडिकल जांच की। स्कूल स्टाफ को घरों में ही 21 दिनों तक एकांतवास में रहने की सलाह दी गयी।
जवाहर नवोदय विद्यालय राठ की प्रधानाचार्या मंजू लता ने बताया कि सभी बच्चों को मणिपुर के लिये परिवहन निगम की बस से आज रवाना किया गया है। ये सभी बच्चे गोरखपुर होते हुये बिहार राज्य के पूर्णिया जनपद बार्डर पर पहुंचेंगे जहां पर मणिपुर राज्य सरकार की बस पूर्णिया बार्डर पर पहुंचकर मणिपुर राज्य में रह रहे हमीरपुर जनपद के 12 छात्र और छात्राओं को बार्डर पर छोड़ेंगे। बार्डर पर ही छात्र-छात्राओं का आदान-प्रदान होगा।
प्रधानाचार्य ने बताया कि मणिपुर राज्य सरकार बच्चों को उनके घरों तक पहुंचायेगी। बता दे कि लॉक डाउन में मणिपुर राज्य के बच्चे यहां हमीरपुर में फंसे थे। वहीं एक सेशन की पढ़ाई करने मणिपुर गये, यहां के 12 बच्चे वहां लॉक डाउन में फंसे है। प्रशासन की पहल पर दोनों राज्यों के बच्चों की घर वापसी हो रही है।

Review हमीरपुर के जवाहर नवोदय स्कूल में फंसे 12 बच्चे मणिपुर के लिये रवाना.

Your email address will not be published. Required fields are marked *