-NH Desk, New Delhi

(हि.स.)। ‘मिशन सागर’ के तहत पांच देशों के लिए सहायता और चिकित्सा सामग्री लेकर भारत से रवाना हुआ भारतीय नौसेना का जहाज केसरी शनिवार को पोर्ट लुइस मॉरीशस पहुंच गया। पहले पड़ाव में यह जहाज 12 मई को सुबह मालदीव के माले बंदरगाह पर पहुंचा था। वहां रमजान के मौके पर भारत की ओर से भेजे गए 580 टन आवश्यक खाद्य पदार्थ दिए थेे।
हिंद महासागर क्षेत्र के देशों की सहायता के लिए भारत ने मदद का हाथ बढ़ाया है। नौसेना का आईएनएस केसरी चिकित्सा सहायता टीमों के साथ ‘मिशन सागर’ पर है। भारतीय नौसेना ने हिंद महासागर क्षेत्र मेंं पांचों देशों मालदीव, मॉरीशस, मेडागास्कर, कोमोरोस और सेशेल्स
के लिए चिकित्सा टीमों और सहायता आपूर्ति के साथ जहाज को 10 मई को रवाना किया था।

भारतीय नौसेना का जहाज केसरी आज पोर्ट लुइस मॉरीशस पहुंच गया।

भारत सरकार कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए विदेशी मित्र देशों को सहायता प्रदान कर रही है। इसी क्रम में मॉरीशस के लोगों के लिए आवश्यक दवाएं और आयुर्वेदिक दवाओं की एक विशेष खेप भेेजी गई है। इसके अलावा भेजी गई एक 14 सदस्यीय विशेषज्ञ मेडिकल टीम में भारतीय नौसेना के डॉक्टर और पैरामेडिक्स शामिल हैंं। मेडिकल असिस्टेंस टीम में एक सामुदायिक चिकित्सा विशेषज्ञ, एक पल्मोनोलॉजिस्ट और एक एनेस्थेसियोलॉजिस्ट शामिल हैं। यह चिकित्सा सहायता टीम मॉरीशस में तैनात की जाएंगी, जिससे कोविड की आपात स्थिति और डेंगू बुखार से निपटने में उनकी मदद करेंगी।
भारत सरकार की ओर से आज ही वहां मॉरीशस सरकार को दवाइयां सौंपने के लिए एक आधिकारिक समारोह आयोजित किया गया। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. कैलाश जगुतपाल ने मॉरीशस सरकार की ओर से दवाओं की खेप ली। भारतीय पक्ष का प्रतिनिधित्व मॉरीशस में भारत के उच्चायुक्त एचई तन्मय लाल ने किया। मंत्री ने भारतीय नौसेना के जहाज केसरी के कमांडिंग ऑफिसर कमांडर मुकेश तायल के साथ भी बातचीत की।
इस अभियान को विदेश मंत्रालय और भारत सरकार की अन्य एजेंसियों के समन्वय में आगे बढ़ाया जा रहा है। ‘मिशन सागर’ प्रधानमंत्री और भारत द्वारा उसके पड़ोसी देशों के साथ संबंधों के महत्व को रेखांकित करता है और मौजूदा संबंधों को और मजबूत करेगा।

Review .

Your email address will not be published. Required fields are marked *