डकरा साइडिंग से बिना क्रेश कोयला की आपूर्ति पवार प्लांटो में की जा रही है

NH DESK JHARKHAND

विनीत कुमार, खलारी/ डकरा ,रांची

एनके एरिया के डकरा साइडिंग से बिना क्रैश किये कोयला को पवार प्लांट में आपूर्ति किया जा रहा है। जबकि कोयला मंत्रालय का साफ निर्देश है किसी भी पवार प्लांट में गुणवत्ता के साथ साथ शत प्रतिशत क्रैश कोयला भेजना है। लेकिन यहां सीसीएल प्रबंधन पिछले 8 सितंबर से ही बिना क्रैश कोयला की आपूर्ति रेलवे रैक से कर रही है। फिलहाल खदान से आने वाले बड़े आकार के कोयला को डोजर से चाईनिंग कर छोटे आकर में करने का औपचारिकता निभा कर रैक में लोडिंग किया जा है।

इस प्रक्रिया से कोयला पूरी तरह से क्रैश नही हो पाता है। जिससे कोयला ग्रेड में गिरावट होती है। जानकर बताते है कि ऐसी प्रकिया से ग्रेड 10 का कोयला ग्रेड 12-13 हो जाती है। जिससे कंपनी को बड़ी नुकसान उठानी पड़ती है। जब कंपनी कोई करवाई करती है तो साइडिंग में कार्यरत मैनेजर और लोडिंग इंस्पेक्टर को भुक्तभोगी बनाकर बड़े अधिकारी बच जाते हैं।

इस संबंध में डकरा केडीएच के पीओ जे. अब्राहम का कहना है कि कोयला लेने वाले कंज्यूमर की कोई शिकायत नहीं आयी है। क्रेशर मशीन खराब होने के कारण ऐसी स्थिति उत्पन्न हुई है। दो तीन दिन के भीतर केशर मशीन ठीक कर लिया जाएगा।

Review डकरा साइडिंग से बिना क्रेश कोयला की आपूर्ति पवार प्लांटो में की जा रही है.

Your email address will not be published. Required fields are marked *