8 सितम्बर को मनाया जाता है अंतराष्ट्रीय साक्षरता दिवस

NH DESK WEST BENGAL

(एनएच- 24 न्यूज): 1966 से यूनेस्को ( मुख्यालय = पेरिस ) की पहल पर पहली बार यह दिवस विश्व में मनाया गया।
2011 की जनगणना के अनुसार भारत में साक्षरता की स्थिति निम्न है।।
भारत की कुल साक्षरता दर 74.04 प्रतिशत है।
साक्षर उसे माना जाता है , जिसकी आयु 7 वर्ष या उससे अधिक हो और जो पढना लिखना जानता हो ।।
सर्वाधिक साक्षर राज्यो की सूची निम्न है।
1: केरल
2: मिजोरम
3: त्रिपुरा
4: गोवा
केंद्रशासित प्रदेशों की साक्षरता दर निम्न है
1 लक्षद्वीप
2 दमन एवम् दीव
3 पुदुचेरी
4 चंडीगढ़
देश का सर्वाधिक साक्षर जिला मिजोरम का सेरक्षिप् है। देश में सबसे कम साक्षर राज्य बिहार एवम् केंद्रशासित प्रदेशों में दादर नागर हवेली है (एनएफ)।
पुरुष साक्षरता दर 82.14 प्रतिशत एवम् महिला साक्षरता दर 65.46 प्रतिशत देश में है।
1995 में 15 अगस्त को सरकार ने मध्याह्न भोजन योजना की शुरुआत की थी। 86 वे संविधान संशोधन 2002 के द्वारा शिक्षा को मौलिक अधिकार में अनुच्छेद- 21( क) में शामिल किया गया । साथ ही मूल कर्तव्यों की सूचि में 11 वा मूल कर्त्तव्य शामिल किया गया कि , प्रत्येक अभिभावक का कर्त्तव्य है कि, वे अपने बच्चों को स्कूल जाने के लिए प्रेरित करे।
शिक्षा समवर्ती सूची का विषय है।

6 से 14 वर्ष उम्र के बच्चों को निशुल्क शिक्षा के लिए शिक्षा का अधिकार कानून 1 अप्रैल 2010 से लागू हुआ है (एनएफ)।
सर्वशिक्षा अभियान की शुरुवात 2001 में हुई थी। जिसका आदर्श वाक्य *सब पढ़े सब बढ़े है*
साक्षर भारत मिशन की शुरुवात प्रधानमंत्री जी ने 8 सितम्बर 2009 को की थी।
राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 में 3 वर्ष से 18 वर्ष के उम्र के बच्चों को निशुल्क शिक्षा के लिए प्रारुप तैयार की गई है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020– 5+3+3+4 पर आधारित होगी।

 

 

 

Review 8 सितम्बर को मनाया जाता है अंतराष्ट्रीय साक्षरता दिवस.

Your email address will not be published. Required fields are marked *