KOLKATA: बुर्ज खलीफा की थीम पर बना दुर्गा पूजा पंडाल, 145 फीट है ऊंचाई, बनाने में लगे 250 कारीगर

NH24 NEWS
दुनिया के सबसे बड़े स्मारकों में से एक बुर्ज खलीफा अब कोलकाता में दुर्गा पूजा पंडाल के रूप में बनाया गया है. यह स्मारक उतना ही सुंदर और जगमगाता है जितना कि दुनिया की सबसे ऊंची इमारत दुबई में बुर्ज खलीफा. इस बुर्ज खलीफा की खासियत यह है कि इसमें दुर्गा मां की मूर्ति होगी और इसके साथ ही पूजा-अर्चना भी होगी.

दुबई के प्रतिष्ठित बुर्ज खलीफा को श्रीभूमि स्पोर्टिंग क्लब पंडाल कोलकाता में दोहराया जाएगा. राज्य के अग्निशमन और आपातकालीन सेवा मंत्री सुजीत बोस के संरक्षण में लेक टाउन के पंडाल में भी इसे राजसी रूप देने के लिए विशेष प्रकाश व्यवस्था की जाएगी.

विशेषता यह है कि आप तिरंगे के साथ-साथ अन्य सभी रंगों को देख सकते हैं और पवित्र शास्त्रों का जाप सुन सकते हैं. लेकिन यह सब कोलकाता में है क्योंकि अगर आपको दुबई जाने का मौका नहीं मिला है तो आप कम से कम इस पंडाल में आ सकते हैं और देवी के दर्शन कर सकते हैं और साथ ही बुर्ज खलीफा की यात्रा का आनंद भी ले सकते हैं.

“यह एक बहुत ऊंची इमारत है और इसकी रोशनी भी अच्छी है जैसा हम देख रहे हैं. यह दिन में अलग और रात में अलग होता है. लोगों को यह पसंद आएगा क्योंकि दुबई जाने के लिए हर कोई सक्षम है. वे यहां कोलकाता में बुर्ज खलीफा को देखकर खुश होंगे. हमने कोलकाता में बिग बेन का घंटाघर बनाया है जिसे लोग पसंद कर रहे हैं. हमारे सीएम के कॉरपोरेशन से हमने मेट्रो भी बनाई है और लोग इसे पसंद भी कर रहे हैं,” बोस ने कहा.

यह न केवल दुनिया की सबसे ऊंची इमारत की प्रतिकृति है बल्कि बंगाल का सबसे ऊंचा दुर्गा पूजा पंडाल भी है. यह आश्चर्यजनक इमारत पूरी तरह से द्वि-आकार के बुर्ज खलीफा की एक प्रति है लेकिन अंतर यह है कि आपको इंटीरियर में लिफ्ट नहीं मिलेगी. हालांकि यह केवल प्रतिकृति की एक प्रति है इसलिए यह लगभग 150 फीट ऊंचा है लेकिन इसकी ऊंचाई मूल इमारत लगभग 3000 फीट है.

250 दिन में बन गया कोलकाता का बुर्ज खलीफा

बुर्ज खलीफा बनाने के लिए उन्हें लगभग 6 साल का समय मिला लेकिन इसे बनाने के लिए लगभग 100 श्रमिकों ने 100 दिनों तक काम किया और यह प्रयास रंग लाया और परिणाम यह है कि सजावट, रोशनी आपको दुर्गा पूजा के लिए और अधिक उत्साहित महसूस कराएगी.

सुजीत बोस ने बताया की “मैंने बुर्ज खलीफा देखा है लेकिन मुख्य कार्यकर्ता रोमियो को बुर्ज खलीफा भेजा गया था. हमने उसे भेजा उसने इसे देखा और एक विचार प्राप्त किया. 250 लोगों ने 2 महीने काम किया है जिसके बाद बुर्ज खलीफा बनता है. हमारे पास जो क्षेत्र है हमने मूल ऊंचाई के अनुपात में पर्याप्त ऊंचाई बना ली है.”

पंडाल लगभग 150 फीट ऊंचा है और इसे बनाने के लिए 100 श्रमिकों या मजदूरों को 100 दिनों का समय दिया गया था. दुबई में बुर्ज खलीफा को कई लोगों द्वारा बनाने के लिए 6 साल की आवश्यकता थी लेकिन इस स्मारक की एक अनूठी विशेषता है. ऐक्रेलिक शीट का उपयोग किया गया है जो इस स्मारक की जगमगाती छवि को व्यक्त कर रहा है. 300 से ज्यादा लाइटें लगाई जा चुकी हैं.

*कोविड के नियमों का पालन*

कोविड के नियमों को याद कर कुछ नियमों को ध्यान में रखा जाएगा. कोविड के कारण किसी को भी अंदर नहीं जाने दिया जाएगा, इसलिए जो कोई भी पंडाल देखने आएगा उसे बाहर से देखना होगा और वहां से तस्वीरें खींचनी होंगी. अगर हम बुर्ज खलीफा के बारे में बात करते हैं, तो इसकी विशिष्टता यह है कि आगंतुक अलग-अलग रंगों को देख पाएंगे, क्योंकि पूरी इमारत ऐक्रेलिक की लगभग 6000 शीट से बनी है, जो एक विशेष सामग्री है और यह ऐक्रेलिक दर्पण एक प्रतिबिंब प्रभाव देता है कि रोशनी, कि लगभग 300 रोशनी देखी जा सकती है.

पश्चिम बंगाल अग्निशमन और आपातकालीन सेवा मंत्री ने कहा की “पूजा से पहले कोविड प्रोटोकॉल के रूप में जाना जाता है. हमारे संविधान के 10,000 लोगों को टीका लगाया गया है और हमारे निर्वाचन क्षेत्र के सभी क्लबों के लिए दूसरी खुराक नवंबर में की जाएगी. इसे अलग रखते हुए हमारे क्लब के सभी लोगों को वैक्सीन की दूसरी खुराक मिल गई है.”

लोगों को खूब पसन्द आ रहा है

पल्लवी घोष, उन आगंतुकों में से एक जो कभी दुबई नहीं गए लेकिन इस पंडाल को देखकर चकित हुए ने कहा कि “दुबई तो गयी नहीं हूं लेकिन यहां कोलकाता में वास्तविकता में बुर्ज खलीफ़ा देखने को मिल गया. यह बहुत अच्छा हैं इसकी लाइटिंग बहुत अछि की गयी हैं जिससे की यह बहुत दूर से दिखाई दे रहा हैं. मैं पहली बार श्रीभूमि आई हूं. मैंने तीन साल से सुना हैं यहां के पंडाल के बारे में लेकिन यह पहली बार हैं जब मैं देखने आई हूं.”

कविता हाजरा पंडाल देखने के बाद उत्साह को नियंत्रित नहीं कर सकी और कहा की “मैं पहली बार बुर्ज खलीफा देखता हूं, मैंने इसे पहले कभी नहीं देखा. मुझे हल्की सजावट से प्यार है और अंदर की सजावट भी बहुत सुंदर है और मुझे यह पसंद है.”इस पंडाल के आयोजक सुजीत बोस ने इस बात का ध्यान रखा है कि इमारत को असली बुर्ज खलीफा की तरह ही वाई-आकार की इमारत के रूप में देखा जाना चाहिए. वहीं लक्समन अग्रवाल ने बताया की “मुझे बहुत अच्छा लग रहा है, ऐसा लगता है जैसे मैं दुबई में हूं, क्योंकि मैं कभी दुबई नहीं गया हूं, इसलिए इसे देखकर मुझे अंदाजा हो सकता है कि दुबई कुछ इस तरह से बना है. यह बहुत अच्छा है और लाइट डेकोरेशन भी अच्छा है, यह दुबई की रौनक देता है.”

राज्य के अग्निशमन मंत्री सुजीत बोस ने बताया की “हम हर साल कुछ न कुछ करते हैं. एक बार केदारनाथ मंदिर, कभी पुरी मंदिर, हमने एक बार बाहुबली का सेट भी बनाया था और एक बार पेरिस से ओपेरा भी बनाया था. हम हमेशा ऐसे अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्मारकों को लोगों द्वारा ज्ञात करने पर ध्यान देते हैं. इस बार हमने बुर्ज खलीफा बनाया है जो दुबई की सबसे ऊंची इमारत है. दुनिया भर में हर कोई बुर्ज खलीफा के बारे में जानता है. यह हमारी पूजा का 49वां वर्ष है जिसके लिए हमने बुर्ज खलीफा बनाने का फैसला किया है.”

मां दुर्गा 40 किलो के गहने पहने हुए होंगी और मूर्ति बुर्ज खलीफा के अंदर विराजमान होगी

“मूर्ति सुंदर है और मिट्टी से बने कपड़ों के साथ एक ‘शबेकी’ मूर्ति है. इसे प्रदीप पात्र पाल ने बनाया है और इसमें ज्वैलरी भी है. यह इस साल भी सेंको द्वारा प्रायोजित है. मूर्ति पर 40 किलो के जेवर होंगे,” बोसे ने आगे बताया.

लक्ष्मण अग्रवाल, व्यापारी का कहना है कि, “मुझे बहुत अच्छा लग रहा है, ऐसा लगता है जैसे मैं दुबई में हूं, क्योंकि मैं कभी दुबई नहीं गया हूं, इसलिए इसे देखकर मुझे अंदाजा हो सकता है कि दुबई कुछ इस तरह से बना है. यह बहुत अच्छा है और लाइट डेकोरेशन भी अच्छा है, यह दुबई की रौनक देता है.”

Review KOLKATA: बुर्ज खलीफा की थीम पर बना दुर्गा पूजा पंडाल, 145 फीट है ऊंचाई, बनाने में लगे 250 कारीगर.

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Spread the love