पूर्वी सिंहभूम में जापानी बुखार से दो लोगों की मौत, दो संदिग्ध केस मिले, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने किया दौरा

NH DESK-JHARKHAND

NEWS BY- JITENDRA KUMAR

कोरोना का प्रकोप कम हुआ तो जापानी बुखार (जेई) पूर्वी सिंहभूम में कहर ढाने लगा है। शुक्रवार को घाटशिला एवं जादूगोड़ा निवासी दो लोगों की जापानी बुखार से मौत हो गई। जिले में अबतक इससे तीन और डेंगू से एक मरीज की मौत हो चुकी है। दो मौतों की सूचना पर स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारियों की टीम ने घाटशिला एवं जादूगोड़ा के गांवों का दौरा किया।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, जापानी बुखार की चपेट में आकर घाटशिला छोटा जमुआ निवासी मरीज की मौत घर पर हुई है। जबकि जादूगोड़ा निवासी वृद्ध का इलाज टीएमएच में चल रहा था। पहले गालूडीह के एक मरीज की मौत हुई थी। टीएमएच एवं मर्सी अस्पताल में इलाजरत दो अन्य मरीजों के बी इससे पीड़ित होने की आशंका है। सर्विलांस विभाग द्वारा दोनों के नमूना जांच के लिए एमजीएम मेडिकल कॉलेज भेजे गए हैं। जांच रिपोर्ट मंगलवार तक सर्विलांस विभाग को मिलने की उम्मीद है।

सतर्कता

जेई से महिला की मौत के बाद राज्य स्वास्थ्य सेवा के उपनिदेशक डॉ. एसएन झा के नेतृत्व में टीम ने गांव का निरीक्षण किया था। उपनिदेशक ने मच्छर का प्रकोप रोकने का निर्देश दिया था। वहीं, जिला स्वास्थ्य विभाग ने एंटी लार्वा का छिड़काव व फॉगिंग कराई थी। दूसरी ओर, स्वास्थ्य केंद्र के कर्मचारियों ने गांव में जांच अभियान चलाया था।

अबतक जेई के 12 व डेंगू के आठ मरीज

2021 में अबतक जिले में जेई के 12 और डेंगू के आठ मरीज मिले हैं। इधर, अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी (एसीएमओ) डॉ. साहिर पाल ने कहा कि रोकथाम को लेकर सभी चिकित्सा प्रभारियों को निर्देश दिया गया है। किसी स्वास्थ्य केंद्र में बुखार का कोई मरीज आता है तो उसकी जांच अवश्य कराएं, ताकि पहचान कर समय से इलाज हो सके।

पानी न जमने दें घरों में

बारिश के दौरान मच्छरों की संख्या बढ़ जाती है। इससे सफाई पर ज्यादा ध्यान देना होगा। इसी कारण मलेरिया, जेई, डेंगू व चिकुनगुनिया की आशंका ज्यादा है। इससे घरों के आसपास पानी न जमने दें। डेंगू का लार्वा साफ पानी में पनपता है।

Review पूर्वी सिंहभूम में जापानी बुखार से दो लोगों की मौत, दो संदिग्ध केस मिले, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने किया दौरा.

Your email address will not be published. Required fields are marked *