शिक्षक सत्याग्रह की कीमत समझे और सदैव संघर्ष के लिए तैयार रहे

आबूरोड़– शिक्षक सत्याग्रह की कीमत समझे और सदैव संघर्ष के लिए तैयार रहे। यह उदगार राजस्थान शिक्षक संघ(प्रगतिशील)के प्रदेशाध्यक्ष श्यामलाल आमेटा ने व्यक्त किये।वो आज दरबार स्कूल के आबूरोड़ में राजस्थान शिक्षक संघ(प्रगतिशील)के जिला शैक्षिक अधिवेशन के उद्घाटन समारोह को सम्बोधित कर रहे थे।

समारोह का शुभारंभ उपस्थित मंचासीन अतिथिगणों द्वारा द्वीप प्रज्ज्वलन द्वारा हुआ।मुख्य प्रदेशाध्यक्ष श्यामलाल आमेटा ने संगठन के संघर्ष के इतिहास पर विस्तृत प्रकाश डाला।उन्होंने बताया कि 350 रुपये बेसिक पे एवं 10 रुपये की वेतन वृद्धि से आज जो आप चार अंको की ग्रेड पे ले रहे हो।

यह सब इसी संगठन के जुझारू पुरोधाओं के संघर्ष का परिणाम है जिन पर हमें आज भी गौरव का अनुभव होता है।केवल यही नहीं 9,18,27का चयनित वेतनमान भी इसी संगठन के संघर्ष का प्रतिफल है ।लेकिन जैसे जैसे जाति ,धर्म, व्यक्तिवाद , राजनीतिक विचारधारा आधार पर संगठनों का निर्माण होता गया, राजस्थान का शिक्षक विभिन्न कुकुरमुत्तो संगठनों में बंटकर सरकारों के समक्ष कमजोर साबित हुआ।

संगठन के मुख्य महामंत्री धर्मेंद्र गहलोत ने कहा कि हमें देश की आजादी के बाद सबसे लंबे चले किसान आंदोलन के धैर्य से सीख लेने की जरूरत है क्योंकि लोकशाही में राजशाही की तरह चल रही हुकुमतों को झुकाने के लिए मर मिटने का जुनून हो तभी समाज को न्याय दिलवाया जा सकता है ।

मुख्य महामंत्री धर्मेंद्र गहलोत ने कहा कि आज पढ़े लिखे युवा का सत्याग्रह आंदोलन से डर ही निजीकरण को बढ़ावा देने हेतु केन्द्र की मोदी सरकार को हौसला दे रही है , यदि ऐसा ही चलता रहा तो देश का शासकीय तन्त्र भी , शिक्षातंत्र भी जल्दी ही निजी हाथों में सौंपकर एक गुलाम भारत का निर्माण होना निश्चित समझे ।

अन्याय ,उत्पीड़न , शोषण ,निजीकरण देश के हर वर्ग को विरोध करना ही होगा ,नहीं तो आज सरकारी कर्मचारी जो वेतन भत्ते लाभ ले रहा है सब आठवें वेतन आयोग की तरह हमसे छीन लिये जायेंगे।संगठन के महामंत्री डॉ हनवंत सिंह मेड़तिया ने देश की वर्तमान शिक्षा नीति में बदलाव की आवश्यकता बताई ।

सम्भाग महामंत्री जगदीश खंडेलवाल ने उपस्थित शिक्षकों का आभार व्यक्त किया।कोरोनाकाल की वैश्विक महामारी में राज्य की गहलोत सरकार एवं सिरोही विधायक सयंम लोढ़ा की श्रेष्ठतम सेवा का उद्घाटन समारोह में धन्यवाद प्रस्ताव पारित किया।

अपरिहार्य कारण से मुख्य अतिथि सिरोही विधायक संयम लोढ़ा के उपस्थित नहीं होने पर उनके द्वारा प्रेषित बधाई संदेश को पढ़कर सुनाया गया । उद्घाटन समारोह में सेवानिवृत्ति को प्राप्त संगठन के साथियों का बहुमान किया गया।

कार्यक्रम की बेहतर व्यवस्था के लिए संयोजक सत्यनारायण बैरवा, सहसयोंजक किशोर कुमार का प्रदेशाध्यक्ष द्वारा बहुमान किया गया।
उद्घाटन कार्यक्रम में पंचायत समिति सदस्य नेवी देवी ,पार्षद किरण कुमार, पार्षद कांति परिहार, पार्षद शमशाद अली अब्बासी, पार्षद समीर खान, सयुंक्त मंत्री शिवकिशोर आमेटा, जिला कोषाध्यक्ष उदयपुर , महिला मंत्री सविता शर्मा, जिलाध्यक्ष विक्रम सिंह सोलंकी, जिलामंत्री इनामुलहक कुरैशी, उपशाखा अध्यक्ष देवेश खत्री, मनोहर सिंह चौहान, छगन भाटी,विनोद नैनावत, सोशल मीडिया एक्सपर्ट गुरुदीन वर्मा, धर्मेंद्र खत्री, रघुनाथ मीणा , अशोक मालवीया ,रमेश दहिया, रमेश रांगी, देशाराम मीणा ,हरिराम कलावन्त ,हीरालाल बारौठ, सीमा धारु, सविता बैरवा, पवित्रा रारिया, अरुणा शर्मा, सीमा बोहरा, आरती मीणा, भगवत सिंह देवड़ा, दिलीप सिंह परमार, भीखाराम कोली , रमेश परमार सहित सैकड़ों शिक्षक उपस्थित थे ।

Review शिक्षक सत्याग्रह की कीमत समझे और सदैव संघर्ष के लिए तैयार रहे.

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Spread the love