कानून ऐसा की ,तोड़ने पर मजबूर हुए बोकारो वासी

बोकारो:- झारखंड राज्य के माननीय मुख्यमंत्री के द्वारा यह गाइडलाइन जारी किया गया कहीं पर भी दुर्गा पूजा पंडाल में मेला नहीं लगेगा एवं इसके लिए जिला प्रशासन को सख्त निर्देश दिए गए। लेकिन बोकारो प्रशासन को सिर्फ निर्देश ही दिए गए भीड़ को रोकथाम करने के लिए ना तो पूरी मात्रा में पुलिस बल मिला और ना ही बिना मास्क के घूम रहे लोगों के लिए चालान काटने का आदेश। सरकार का गाइडलाइन भी ऐसा कि पालन कराना भी सबसे बड़ी चुनौती क्योंकि सरकार की माने तो 18 साल से कम उम्र वाले को पंडाल में जाना वर्जित है तो वैसे अभिभावक क्या करेंगे जिनके पास 6 साल के छोटे-छोटे बच्चे हैं क्या यह उन लोगों के लिए दुर्गा पूजा नहीं है? इन लोग के सामने बोकारो प्रशासन भी मजबूर है।
और दूसरी बात तो यह की पंडाल के आगे घेरा लगाया गया है उसके बगल में एक बड़ी सी एलसीडी स्क्रीन लगाई गई है इसमें माननीय मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन के द्वारा किए गए कामों का वीडियो चलाया जा रहा है अगर आप माता रानी के दर्शन करने आते हैं तो उनके दर्शन हो या ना हो लेकिन माननीय मुख्यमंत्री जी के दर्शन आपको जरूर होंगे. बोकारो वासियों से बात करने पर सभी की लगभग यही मांग थी या तो पूरी तरह से दुर्गा पूजा बंद होता या फिर पूरे तरीके से घूमने की आजादी दी जाती।
झारखंड के बोकारो जिले से नवेन्दु कुमार मिश्रा की यह रिपोर्ट

Review कानून ऐसा की ,तोड़ने पर मजबूर हुए बोकारो वासी.

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Spread the love